योजनाऐं

केन्द्रीय सहायता देने के लए दिशानिर्देश

इस योजना में व्यावसायिक, गैर-व्यवसायिक, तकनीकी, गैर-तकनीकी पाठ्यक्रमों के साथ ही दूरस्थ एंव सतत शिक्षा पत्राचार पाठयक्रम भी शामिल है, इस योजना की शुरूआत 1944-45 के दौरान हुई और इसे समय-समय पर संशोधित किया गया। इस योजना का आखिरी संशोधन 01-07-2010 को हुआ था।

प्रमुख विशेषताएं

यह एक केन्द्रीय योजना है जो इंजीनियरिंग, तकनीकी एंव विज्ञान क्षेत्र में विदेशों में मास्टर स्तर के पाठ्यक्रम, पीएच.डी. और पोस्ट डॉक्टरेट अनुसंधान कार्यक्रम स्तर के प्रतिभाशाली अनुसूचित जनजाति छात्रों को वित्तिय सहायता प्रदान करती है। इस योजना की शुरूआत 1954-55 के दौरान हुई और इसे समय-समय पर संशोधित किया गया। यह एक गैर-योजनागत स्किम है, जो 2007-08 से योजनागत स्कीम बनी।

अकादमी वर्ष 2007-08 से प्रांरभ की गई अनुसूचित जनजाति के छात्रों हेतु यह एक केन्द्रीय क्षेत्र की छात्रवृत्ति योजना है जिसका उद्देश्य जनजातीय मंत्रालय द्वारा निर्धारित किए गए किसी भी संस्थान में डिग्री एंव स्नातकोत्तर में पढ़ने के लिए प्रतिभाशाली अनुसूचित जनजाति छात्रों को प्रोत्साहित करना है।

 

प्रमुख विशेषताएं: