धर्म की परिभाषा शायद ही किसी को मालूम है, पर वह खुद को धार्मिक कहलाने से पीछे नहीं हटता..धर्म की परिभाषा क्या है?

धर्म का मतलब जो स्थापित हो, यानि धर्म, रीति, रिवाज विधि या कर्तव्य है. नैतिक मूल्यों का आचरण है. धर्म मानव में मानवीय गुणों के विकास की प्रभावना है. जो धर्म मानव में पाशविक गुणों की वृद्धि करता हो, उसे धर्म की परिभाषा में नहीं रखा जाएगा.

संप्रदाय किसे कहते हैं?