क्‍या आदिवासी के लिये अलग धर्म कोड जारी होना चाहिये ?

Primary tabs

Comments

Adivasi ka alg drhm kod hona hi sahiye

आदिवासी का एक धर्म कोड जरूरी है हमारा आदिबासी दुसरे धर्म को मानकर अपना तन मन धन एक ऐसे धर्म को जिसका उससे कोई सम्वन्ध नहीं लगा रहा हे जो कि गलत है अतः आदिवासी किसी दुसरे धर्म में न जाने पाये यह ओर भी जरूरी हो जाता है

हा होना चाहिये

धर्म कोड क्या होगा

Adivasi hi hona ye hi code hoto chalega anyatha alag cod me nahi manta.

धर्म कोड क्या होगा

आदिवासी है कि नहीं, यह साबित करना पर्याप्त है ।

धर्म जानने से क्या होगा ?
आदिवासी समाज को धर्म के नाम पर विभाजित करने में आसानी होगी ।

ADIVASI VVCB

हां होना चाहिए क्योकि सुप्रीम कोर्ट भी कहता है आदिवासी हिन्दू नही है . आदिवासी धर्मपूर्वी लोग है . सरकार को इस पर विचार करना चाहिए

आदिवासी का धर्म कोड़ होना चाहिए ताकि किसी अन्य धर्मावलम्बियों के चूंगल मे न फंसे !धर्म भी ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित हो ताकि धार्मिक परम्परा व मूल जड़ स्वाभिमान के साथ व़्क्त कर सके!

अरे आदिवासी धर्म पूर्वी हे तो समज में नहीं आता क्या की आदिवासी का कोई धर्म नहीं है।

आदिवासी का सरनाा कोड होना चाहिए

Nahi ! kyoki Aadivasi yo ko dharm code ki janjiro me bandha Gaya to uska astitva khatre me aa jayenga. Jab ki Aadivasi yo ke pas pehlesehi Aadi dharm, Sarna dharm ,Gondi dharm aur koya punem jaise dharm hai. Sanvidhan me Aadivasi yo ko Unki sanskruti aur uski sabhyata se Jana Gaya hai Jo ki Duniya ke tathakathit dharmo se alag hai. Aadivasi yo ki mul pehchan bhi uski Sanskruti hi hai. Sanvidhan ke article 25,26,27,28 ke tahat bhi Aadivasi yo ko Unki mul pehchan ki vajah se alag rakha Gaya hai. Agar aisa ho Gaya to Sanvidhan ki 5 vi aur 6 vi Anusuchise se kahi bedakhal na hona pade.

Nahi ! kyoki Aadivasi yo ko dharm code ki janjiro me bandha Gaya to uska astitva khatre me aa jayenga. Jab ki Aadivasi yo ke pas pehlesehi Aadi dharm, Sarna dharm ,Gondi dharm aur koya punem jaise dharm hai. Sanvidhan me Aadivasi yo ko Unki sanskruti aur uski sabhyata se Jana Gaya hai Jo ki Duniya ke tathakathit dharmo se alag hai. Aadivasi yo ki mul pehchan bhi uski Sanskruti hi hai. Sanvidhan ke article 25,26,27,28 ke tahat bhi Aadivasi yo ko Unki mul pehchan ki vajah se alag rakha Gaya hai. Agar aisa ho Gaya to Sanvidhan ki 5 vi aur 6 vi Anusuchise se kahi bedakhal na hona pade.

अपने विचार यहां पर लिखें

1 + 0 =