लेख

" प्रकृति पूजक संस्कृति रक्षक आदि आनादिकाल वासी आदिवासी मूल वासी "

READ MORE...

प्यार एक ऐसा शब्द है जिसके बारे में हर कोई व्यक्ति बहुत कुछ सोचता है | बहुत से लोग कहते है की प्यार का होना ही हमारे जीवन का होना माना जाता है | बिना प्यार की जिंदगी कुछ भी नहीं होती जैसे जेब में नॉट नहीं तो कुछ भी नही की तरह | वैसे हर कोई प्यार के बारे में जो सोचता है वो उनके अनुरूप सही है | क्योंकि कोई गलत नही होता और कोई सही नहीं होता,परन्तु बिना हार के जीत भी तो नही होती | जब भी अपने दोस्तों से में किसी मुद्दे पर या किसी विषय पर चर्चा करता हूँ,तो कई तरह के अच्छे और बुरे दोनों विचार मुझे जानने को मिलते है | इस बार जब मैं प्यार के बारे में अपने दोस्तों से चर्चा कर रहा था तो मेरे एक मित्र... more

READ MORE...

आदिवासियों के लिए देवता है आजादी के सेनानी टंट्या भील

देश में आजादी की पहली लड़ाई यानी 1857 के विद्रोह में जिन अनेक देशभक्तों ने कुर्बानियां दी थी, उन्हीं में से एक मुख्य नाम है आदिवासी टंट्या मामा। आजादी के इतिहास में उनका जिक्र भले ही ज्यादा न हो मगर वह मध्य प्रदेश में मालवा और निमाड़ अंचल के आदिवासियों के लिए आज भी किसी देवता से कम नहीं हैं। 

READ MORE...

भारत के लगभग 20% भूभाग में 600 से भी अधिक आदिवासियों जिनकी संख्या 10 करोड़ है भारत के कुल जनसंख्या का सिर्फ 8% ही है। पूर्वकाल से आदिवासियों का अपने प्राकृतिक संसाधनों पर पूर्ण अधिकार था। लेकिन आधुनिक युग की शुरुवात के पूर्व जब भारत में कई विदेशी आक्रमणकारी लोगो का प्रवेश होना शुरू हुआ तो इससे यहाँ के आदिवासी समुदाय के जनजीवन में कोई फर्क नहीं पड़ा क्योकि वे आक्रमणकारी लोग इन आदिवासियों के क्षेत्रो में प्रवेश नहीं किया था। हुन , मंगोल और मुगलो का भारत में बार बार आक्रमण करने का मुख्य मकसद सिर्फ कीमती चीजो जैसे सोना आदि को लूटना था। मुगलो ने भारत में 1526-1857 तक लंबा शासन कायम किये। लेकिन जब... more

READ MORE...

विश्व आदिवासी दिवस, हैं त्योहार इसे मनाया जाना होगा।

बाधाओं को तोड़कर,घटाओं को रोककर जाना होगा।

हो न हो छाता बरसाती,बरसते पानी कीचड़ में से जाना होगा।

विश्व आदिवासी दिवस, हैं त्योहार इसे मनाया जाना होगा।

एक तीर एक कमान सभी आदिवासी एक समान गीत गाना होगा।

READ MORE...

हर युवा आदिवासी जयस है।जयस कोई व्यक्ति विशेष नही है।जयस संघटन नही सिर्फ एक सामाजिक आदिवासी क्रांतिकारी विचारधारा है। इस क्रांतिकारी विचारधारा को बेड़ियों में जकड़नेे की कोशिश न करे । वरना जो जकड़ा गया है उसका कभी विकास नही हुआ है । शने शने पतन हुआ है ।।

READ MORE...

MY SELECTION IN TOP -1 COUNTRY OF THIS WORLD ( INTERNATIONAL UNIVERSITY ) ......

READ MORE...
RESERVATION IN OTHER COUNTRIES

आजकल देश में दलित (OBC, SC & ST) आरक्षण के विरोध मे आंधी सी चल रही है। आरक्षण के खिलाफ बेहूदे और बेतुके तर्क किये जाते है। सबसे पहला तर्क होता है कि दूसरे देशो मे आरक्षण नहीं दिया जाता इसलिये वे देश हमसे ज्यादा प्रगितिशील है जो बिल्कुल गलत है। विदेशो मे भी आरक्षण की पद्धति है।

READ MORE...