क्‍या आदिवासी समाज में किसी बालक/बालिका ने कोई उपलब्धि हासिल की है तो उसका पूरा विवरण हमें भेजे हम पूरी दुनियां को उसकी प्रतिभा से परिचय करवायेगें

क्‍या आदिवासी समाज में किसी बालक/बालिका ने कोई उपलब्धि हासिल की है तो उसका पूरा विवरण हमें भेजे हम पूरी दुनियां को उसकी प्रतिभा से परिचय करवायेगें

समाज की प्रतिभा की डिटेल या पूरा विवरण वेबसाईट पर यहां क्लिक करके भी डाला जा सकता है।

यहां पर क्लिक करे एवं पूरा विवरण फोटो सहित डाले

http://aadivasisamaj.com/node/add/pratibhaye

Comments

आदिवासी योध्दा कुशालसिंग खराडी जो कि मध्यप्रदेश के रतलाम जिले का है उनका जन्म 1817 मै हआा था उनके माता - पिता बहुत ही गरीब थे इसके कारण उनकी शिक्षा दीक्षा अपूर्ण रह गई ओर उन्होने अपने माता पिता के काम मै सहयोग देना शुरू कर दिया था जब अंग्रेजो ने उनके माता -पिता को बन्दी बना लिया ओर उनको अंग्रेजो का गुलाम बना लिया तब से कुशालसिंग खराडी ने अपने माता- पिता को गुलामी से मुक्त कराने के लिये अंग्रेजो से लोहा लिया ओर अंग्रेजो को परास्त करके अपने माता-पिता को मुक्त कराया एक बार जब कुशालसिंग खराडी अपने माता- पिता के आदेशा से चितोड़ जा रहा था तब अंग्रेजो ने कुशालसिंग खराडी को घेर कर आत्माहत्या कर दी गई
जय हो आदिवासी योध्दा कुशालसिंग खराडी की

आदिवासी योध्दा कुशालसिंग खराडी जो कि मध्यप्रदेश के रतलाम जिले का है उनका जन्म1जनवरी 1817 मै हआा था उनके माता - पिता बहुत ही गरीब थे इसके कारण उनकी शिक्षा दीक्षा अपूर्ण रह गई ओर उन्होने अपने माता पिता के काम मै सहयोग देना शुरू कर दिया था जब अंग्रेजो ने उनके माता -पिता को बन्दी बना लिया ओर उनको अंग्रेजो का गुलाम बना लिया तब से कुशालसिंग खराडी ने अपने माता- पिता को गुलामी से मुक्त कराने के लिये अंग्रेजो से लोहा लिया ओर अंग्रेजो को परास्त करके अपने माता-पिता को मुक्त कराया एक बार जब कुशालसिंग खराडी अपने माता- पिता के आदेशा से चितोड़ जा रहा था तब अंग्रेजो ने कुशालसिंग खराडी को घेर कर आत्माहत्या कर दी गई
जय हो आदिवासी योध्दा कुशालसिंग खराडी की

MOBILE NO: 
7610173275
e-Mail: 
Nibhayshigh123@gmail.com