आधुनिक भाषाएं आदिवासी भाषा से विकसित हुई हैं

दुनिया की 6000 आधुनिक भाषाएं स्टोन एज की एक ही अफ्रीकन आदिवासी भाषा से विकसित हुई हैं । न्यूजीलैंड के विकासवादी मनोविज्ञानी शोधकर्ता क्वेंटिन एटकिंसन ने यह दावा विश्व की 504 भाषाओं के शब्दों, ध्वनियां और उनके टोन के आधार पर किया है । उनका यह शोध जब 2011 में साइंस जरनल में प्रकाशित हुआ है।

दुनिया की 6000 आधुनिक भाषाएं स्टोन एज की एक ही अफ्रीकन आदिवासी भाषा से विकसित हुई हैं. अंग्रेजी से लेकर चीनी और संस्कृत तक. दुनिया भर की यह जननी भाषा 50 से 70 हजार साल पहले अस्तित्व में आई थी. यूनिवर्सिटी ऑफ ऑकलैंड, न्यूजीलैंड के विकासवादी मनोविज्ञानी शोधकर्ता क्वेंटिन एटकिंसन ने यह दावा विश्व की 504 भाषाओं के शब्दों, ध्वनियां और उनके टोन के आधार पर किया है. उनका यह शोध जब 2011 में साइंस जरनल में प्रकाशित हुआ तो दुनियाभर के भाषाविदों और वैज्ञानिकों में खलबली मच गई क्योंकि अब तक यही माना जाता रहा था कि भाषाएं अलग-अलग इलाकों में स्वतंत्र ढंग से विकसित हुई हैं. जबकि क्वेंटिन एटकिंसन प्रमाण के साथ कहते हैं कि अफ्रीकन भाषा ने न सिर्फ दुनिया की भाषाओं के विकास में भूमिका निभाई बल्कि सभ्यता के विकास के लिए आवश्यक कला-कौशल और तकनीक भी उन्हीं की देन है. क्वेंटिन के शोध निष्कर्ष के प्रमुख आधारों में जीनोम को भी लिया गया है जिसके अनुसार जेनेटिक्स अध्ययन भी अफ्रीका को इंसानी सभ्यता के विकास का मूल उद्गम मानता है. नोबेल विजेता वैज्ञानिक मुर्रे गेल-मान, जिन्होंने भाषाओं के विकास की खोज की एक परियोजना की स्थापना की है, और इन जैसे अनेक वैज्ञानिकों ने क्वेंटिन एटकिंसन के अध्ययन निष्कर्ष को तर्कसंगत मानते हुए समर्थन दिया है.

http://www.globalpost.com/dispatch/news/business-tech/science/110415/lan...

Comments

We should devlop

Ha

Very nice

Jo sach hai o sach rahega hi

अपने विचार यहां पर लिखें

Order
अपना मोबाईल नम्‍बर लिखे
Image CAPTCHA