इतिहास से आज के दिन विशेष...

10 दिसम्बर 1857 - शहीद वीर नारायण सिंह शहादत दिवस

10 दिसम्बर 1857 को रायपुर के चौराहे वर्तमान में जयस्तंभ चौक पर बांधकर शहीद वीर नारायण सिंह को फांसी दी गई। बाद में उनके शव को तोप से उड़ा दिया गया और इस तरह से भारत के एक सच्चे देशभक्त की जीवनलीला समा

ARTICLE

छत्तीसगढ़ की जेलें निर्दोष आदिवासियों से भरी हुई है
कुछ जेलों में तो हालत यह है कि आदिवासियों को सोने के लिए जगह नहीं है 
वह 2 घंटे की शिफ्ट में ही सो पाते हैं
24 घंटे में सिर्फ 2 घंटे उन्हें सोने के लिए मिलता है 

ARTICLE

संदेह पैदा क्यों न हो दुनिया में, संदेह पैदा होता है, झूठी श्रद्धा थोप देने के कारण। छोटा बच्चा है, तुम कहते हो मंदिर चलो। छोटा बच्चा पुछता है किस लिए?
अभी मैं खेल रहा हूं, तुम कहते हो, मंदिर में और ज्यादा आनंद आएगा।

इतिहास के पन्‍नों से

गोंड आदिवासियों की भाषा है। यह भाषा प्राचीन काल की भाषा है कहा जाता है कि जब पृथ्वी का उदगम हुआ और इस पृथ्वी पर मनुष्य का जन्म हुआ तब यह भाषा का भी जन्म हुआ। सर्वप्रथम पारीकुपार लिंगो ने इस भाषा को और भी विस्तारित किय

कानुन की जानकारी

The Tribes Advisory Councils have been constituted in the Scheduled Areas States - Andhra Pradesh, Chhattisgarh, Gujarat, Jharkhand, Himachal Pradesh, Madhya Pradesh, Maharashtra, Odisha and

कानुन की जानकारी

'झारखण्ड प्रदेश' जिसकी कल्पना देश की आजादी के पूर्व एक 'जनजाति बहुल प्रदेश' के रूप मे किया गया था । इस प्रदेश में लगभग 33 से भी ज्यादा जनजाति समुदायों का निवास सदियों से रहा है। मुख्यतः जनजाति समुदाय झारखण्ड के आंचलिक

परम्‍पराऐं

कोयतोरिन टेक्नोलॉजी में टेडा/चिपटा जिसमे बीज को वर्षो तक सुरक्षित रखा जाता है जो की कोयतोर्स अपने फसल के बीज को आने पीढ़ी (जनरेशन)में पूर्णअंकुरण हो और फ़सलोउत्पादन अधिक हो..इसलिए कोयतोर्स सुव्यवस्थित टेडा का बीज संरक्ष

स्‍वास्‍थ्‍य अपडेटस

कभी कभी सोते हुए अचानक आपकी नींद खुलती है और आपको लगता है कोई आपके ऊपर बैठा है, आप देख तो सब रहे होते हो पर हिल डुल नही पाते, बोल नही पाते, कुछ सेकंड के लिए ऐसी स्थिति से बहुत सारे लोग गुजरे होंगे,